Home Jobs CBSE Board Class 12 Examination Date 2021 | CBSE Board Examination Newest...

CBSE Board Class 12 Examination Date 2021 | CBSE Board Examination Newest Replace, NTA, NEET, JEE Major Entrance Exams, Examination Dwell Updates | साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स के केवल three सब्जेक्ट के एग्जाम हो सकते हैं, कोरोना की वजह से एग्जाम नहीं दे पाए तो मिलेगा मौका

38
0

  • Hindi News
  • National
  • CBSE Board Class 12 Examination Date 2021 | CBSE Board Examination Newest Replace, NTA, NEET, JEE Major Entrance Exams, Examination Dwell Updates

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्लीएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
cbse24 1621748185

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) 12वीं क्लास में मुख्य विषयों यानी मेजर सब्जेक्ट्स का एग्जाम लेने पर विचार कर रहा है। 12वीं में साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स के केवल three मुख्य विषयों की ही परीक्षा लेने पर विचार किया जा रहा है। बाकी सब्जेक्ट्स में मुख्य विषयों पर मिले नंबर्स के आधार पर मार्किंग का फॉर्मूला भी बन सकता है।

यह भी कहा गया है कि जो स्टूडेंट कोरोना की वजह से एग्जाम नहीं दे पाते हैं, उन्हें एक और मौका मिलना चाहिए। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में रविवार को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ मंत्रियों और अधिकारियों की एक हाईलेवल मीटिंग में 12 के एग्जाम और प्रोफेशनल्स एजुकेशन के एंट्रेंस टेस्ट पर फैसला हो सकता है। मीटिंग में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और प्रकाश जावडेकर भी शामिल होंगे। सरकार ने कोरोना की दूसरी लहर के चलते 12वीं बोर्ड का एग्जाम टाल दिया था।

एग्जाम को लेकर CBSE के पास 2 विकल्प

  1. पहला: सिर्फ मेजर सब्जेक्ट की परीक्षा निर्धारित सेंटर्स पर कराई जा सकती है। इन परीक्षाओं के नंबर्स को आधार बनाकर माइनर सब्जेक्ट में भी नंबर दिए जा सकते हैं। इस विकल्प के तहत परीक्षा करवाने के लिए प्री-एग्जाम के लिए 1 महीना, एग्जाम और रिजल्ट डिक्लेयर करने के लिए 2 महीने और कंपार्टमेंट एग्जाम के लिए 45 दिनों का समय चाहिए होगा। यानी इस विकल्प को तब ही अपनाया जा सकता है, जब CBSE बोर्ड के पास three महीने की विंडो हो।
  2. दूसरा: दूसरे विकल्प में सभी सब्जेक्ट्स के एग्जाम के लिए डेढ़ घंटे (90 मिनट) का समय निर्धारित करने का सुझाव दिया गया है। इसके साथ ही पेपर में सिर्फ ऑब्जेक्टिव या शॉर्ट क्वेश्चन ही पूछने की सलाह दी है। इस तरह 45 दिन में ही एग्जाम कराए जा सकते हैं। इसमें कहा गया है कि 12वीं के बच्चों के मेजर सब्जेक्ट की परीक्षा उनके ही स्कूल में ले ली जाए। साथ ही, एग्जामिनेशन सेंटर्स की संख्या बढ़ाकर दोगुनी कर दी जाए।

इलेक्टिव सब्जेक्ट के three और लैंग्वेज का एक पेपर
सुझावों में कहा गया है कि 12वीं क्लास के एक्जाम में एक पेपर भाषा से संबंधित और three पेपर इलेक्टिव सब्जेक्ट का रखा जाए। 5वें और 6वें सब्जेक्ट के नंबर इलेक्टिव सब्जेक्ट में मिले नंबर के आधार पर दिए जाएं। यदि बोर्ड दूसरे विकल्प को चुनाता है तो 2 फेज में परीक्षा करवाई जा सकती है।

कोरोना होने पर परीक्षा न दे पाने पर एक मौका और
जिन जगहों पर कोरोना महामारी से हालात ज्यादा खराब नहीं हैं, वहां पहले फेज में परीक्षा करवाई जानी चाहिए। बाकी, बचे इलाकों में दूसरे फेज में परीक्षा करवाएं। दोनों फेज के बीच 14 दिन का गैप होना चाहिए। यदि कोरोना संक्रमण के कारण कोई छात्र परीक्षा नहीं दे पाता है तो उसे एक मौका और मिलना चाहिए।

cbse1621692685 1621748155

मध्य प्रदेश ने जून में एग्जाम का सुझाव दिया
मध्यप्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण 10वीं और 12वीं की बोर्ड एग्जाम जून में कराने का प्रस्ताव भेज दिया गया है। इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मोहर लगनी बाकी है। 10वीं की परीक्षा 30 अप्रैल और 12वीं की एग्जाम एक मई से शुरू होनी थी। वहीं, राजस्थान सरकार राज्य में लॉकडाउन के बाद 10वीं और 12वीं एग्जाम पर कोई फैसला लेगी। उत्तर प्रदेश सरकार ने भी जून में ही 12वीं की एग्जाम कराने का फैसला किया है।

खबरें और भी हैं…

.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here