Home Uncategorized Corona’s fear in NDA examination only 54 percent candidates attended 46 percent...

Corona’s fear in NDA examination only 54 percent candidates attended 46 percent did not gave exam | पटना के 99 सेंटरों पर पर महज 54 प्रतिशत कैंडिडेट्स ही हुए शामिल, 46 प्रतिशत ने नहीं दिया एग्जाम

65
0

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Corona’s Fear In NDA Examination Only 54 Percent Candidates Attended 46 Percent Did Not Gave Exam

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar

प्रतीकात्मक तस्वीर।

नेशनल डिफेंस अकेडमी (NDA) की लिखित परीक्षा में कोरोना का डर साफ तौर पर दिखा। पटना के 99 सेंटरों पर पर महज 54 प्रतिशत कैंडिडेट्स ही हुए शामिल, 46 प्रतिशत ने एग्जाम ही नहीं दिया। रविवार को पटना में कुल 99 एग्जामिनेशन सेंटर बनाए गए थे। पटना के तमाम सेंटरों पर 100 प्रतिशत कैंडिडेट्स की मौजूदगी नहीं हुई। पटना जिला प्रशासन के अनुसार सिर्फ 54 प्रतिशत कैंडिडेट्स ने ही NDA का एग्जाम दिया। यह आंकड़ा दोनों पालियों के एग्जाम के खत्म होने के बाद सामने आया है। कोरोना वायरस के तेजी से फैलते संक्रमण को देखते हुए 46 प्रतिशत कैंडिडेट्स इस एग्जाम में शामिल हुए ही नहीं।

संघ लोक सेवा आयोग ने आयोजित कराई थी परीक्षा

इस एग्जाम को संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) खुद कंडक्ट कराता है। पटना के कॉलेज ऑफ कॉर्मस, TPS कॉलेज, AN कॉलेज सहित कुल 99 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक किसी भी एक सेंटर पर दोनों पालियों में एग्जाम देने वालों की जितनी लिस्ट तैयार की गई थी, उतने वहां एग्जाम देने पहुंचे ही नहीं।

जहां केंद्र, उन इलाकों में बाधित रहा इंटरनेट
NDA के एग्जाम को लेकर पटना के हर एक सेंटर पर कड़ी निगरानी थी। सभी सेंटर पर CCTV से मॉनिटरिंग की गई। इसके अलावा करीब 300 मजिस्ट्रेट को निगरानी के लिए ड्यूटी पर लगाया गया था। सुरक्षा के लिए SI, ASI समेत करीब 500 पुलिस के जवानों को अलग-अलग सेंटरों पर तैनात किया गया था। इन सब के बीच एक बड़ी समस्या उन इलाकों में हुई, जहां NDA का एग्जामिनेशन सेंटर था। सुबह 11 बजे से ही कई इलाकों में इंटरनेट सेवा बाधित होने और मोबाइल पर कॉल ड्रॉप होने की शिकायतें मिलीं। इसका कारण सेंटरों पर लगाए जाने वाले जैमर को बताया गया, जिसे एग्जाम के दौरान चोरी और किसी प्रकार के कॉल व मैसेज को आने-जाने से रोकने के लिए लगाया जाता है। हालांकि इससे जुडे़ सवाल पर जिला प्रशासन के अधिकारियों ने साफ मना किया। अधिकारियों के अनुसार एग्जामिनेशन सेंटरों पर लगाए जाने वाले जैमर की फ्रिक्वेंशी काफी लो होती है। उसका असर सिर्फ सेंटर तक ही होता है।

पटना में 10 हजार अभ्यर्थी परीक्षा में हुए शामिल
पटना के विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर 10 हजार अभ्यर्थी NDA की लिखित परीक्षा में शामिल हुए। लिखित परीक्षा में एक पेपर मैथ्स का था, जो 300 अंकों का था। इसमें 120 प्रश्न पूछे गए, जिसके लिए समय 2.30 घंटे का रहा। वहीं दूसरा पेपर में जनरल एबिलिटी टेस्ट का था, जो 600 नंबर का था। इसमें 150 प्रश्न पूछे गए, जिसके लिए समय 2.30 घंटे का रहा। प्रतियोगिता परीक्षा विशेषज्ञ डॉ एम रहतान के मुताबिक जिन अभ्यर्थियो ने 45-50% तक सॉल्व किया होगा, उनके रिजल्ट की संभावना है। जिन अभ्यर्थियो ने NCERT और टेस्ट बुक का गहनता से अध्यन्न किया होगा, उसकी परीक्षा अच्छी गई होगी।

मिलर स्कूल में संक्रमित टीचर की जानकारी प्रशासन को नहीं

पटना के मिलर हाईस्कूल में 480 में 239 छात्र NDA का एग्जाम दिए। मिलर स्कूल के 2 टीचर पॉजिटिव हैं। एक व्यवसायिक और एक साइंस के टीचर यहां पहले से पॉजिटिव हैं। टीचर के पॉजिटिव होने की सूचना जिला प्रसाशन को नहीं दी गई थी। प्राचार्य का कहना है कि थर्मल स्कैनिंग से जांच की गई है।

खबरें और भी हैं…

.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here